escalators : मुम्बई के मीरा रोड स्टेशन पर दो नए एस्केलेटर चालू

miraroad-escalators

-एस्केलेटर (escalators) से दिव्यांगजनों व बुजुर्गो को मिलेगी राहत
-रेल संदेश ब्यूरो-
मुम्बई। यात्रियों के लिए बेहतर सुविधाएं प्रदान करने की श्रृंखला में, पश्चिम रेलवे ने मीरा रोड स्टेशन पर दो नए एस्केलेटर (escalators) शुरू कर दिए हैं। इन नए एस्केलेटरों (escalators) का उद्घाटन सांसद राजन विचारे ने वेब लिंक के माध्यम से किया। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर की ओर से द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, नए एस्केलेटर मीरा रोड स्टेशन के फुट ओवर ब्रिज (दक्षिण) के पास प्लेटफॉर्म नंबर 2-3 और 4 पर लगाए गए हैं। प्रत्येक एस्केलेटर (escalators) पर लगभग एक-एक करोड़ रुपए की लागत आई है। इन एस्केलेटरों में प्रत्येक घंटे 900 यात्रियों की क्षमता है और विशेष रूप से बुजुर्गों, दिव्यांगजनों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों को इससे काफी राहत मिलेगी। यह यात्रियों के लिए फायदेमंद साबित होगा ठाकुर ने आगे बताया कि मुंबई डिवीजन में 54 एस्केलेटर हैं, जिसमें मुंबई उपनगरीय सेक्शन में 50 एस्केलेटर लगे हैं। इस वित्तीय वर्ष में अतिरिक्त 10 एस्केलेटर लगाए जाने की योजना है। पश्चिम रेलवे ने यात्रियों की सुरक्षा को हमेशा सर्वोच्च प्राथमिकता दी है और सभी यात्रियों से प्लेटफॉर्म को बदलने के लिए फुट ओवर ब्रिज, सबवे, लिफ्ट, एस्केलेटर का उपयोग करने का आग्रह किया है। साथ ही रेल पटरियों को पार करना अवैध व खतरनाक बताया है।
आरपीएफ को सहायता: पश्चिमी रेलवे महिला कल्याण संगठन (डब्ल्यूआरडब्ल्यूडब्ल्यूओ WRWWO)की अध्यक्ष श्रीमती तनुजा कंसल ने वडोदरा स्टेशन पर एकीकृत क्रू लॉबी के लिए आरओ वाटर प्यूरीफायर का उद्घाटन किया। इसके अलावा, आरपीएफ के जवानों द्वारा प्रदर्शित वीरता और साहस के लिए डब्ल्यूआरडब्ल्यूडब्ल्यूओ ने 41500 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की है। जिसका उपयोग अहमदाबाद और राजकोट आरपीएफ पोस्ट के लिए दो वाशिंग मशीन की खरीद के लिए किया गया था। साथ ही भावनगर आरपीएफ पोस्ट के लिए तीन हॉट प्लेट भी खरीदी गई। तीन डीप फ्रीजर की खरीद के लिए इस तरह की सहायता मुंबई डिवीजन के आरपीएफ को भी प्रदान की गई। पश्चिमी रेलवे महिला कल्याण संगठन (WRWWO) रेलवे और उनके परिवारों को मदद और देखभाल प्रदान करने के लिए हमेशा आगे आया है। इसने लगातार काम करना जारी रखा है और खुद को विविध कल्याणकारी गतिविधियों के लिए समर्पित किया है। इस तरह की अनुकरणीय मिसालों के सिलसिले में श्रीमती कांसल के रतलाम और वडोदरा डिवीजनों के हालिया दौरे के दौरान, मील का पत्थर साबित हुआ।