tte staff : रेलवे की उपेक्षा,टीटीई स्टाफ को न पीपीई किट, न हैड शीट

0
37

बीकानेर। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लााॅकडाउन का 4.0 चरण शुरू हो गया है। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए आम जनता के लिए मास्क पहनना, बार-बार हाथ धोना और सैनिटाइजर का इस्तेमााल करना जरूरी है। कोरोना योद्धाओं के लिए इन सबके साथ-साथ पीपीई किट, हैण्ड ग्लव्ज और हैड शीट लगाना जरूरी है। सीधे संदिग्धों के सम्पर्क में आने वाले प्रत्येक के लिए इन सुरक्षा उपकरणों का इस्तेमाल करना जरूरी है। लेकिन रेलवे इस बात को नहीं समझ रहा। इन दिनों बीकानेर में श्रमिक ट्रेनों का मूवमेंट चालू हो गया है। श्रमिक स्पेशल के आगमन और प्रस्थान के लिए रेलवे अपने कर्मचारियों को तैनात कर रहा है लेकिन सिर्फ साधारण मास्क और लगभग 50-100 एमएल की सैनिटाइजर का पैक दिया जा रहा है। कर्मचारियों में सबसे ज्यादा संख्या वाणिज्य शाखा के टीटीई स्टाफ (tte staff) की है। शनिवार को मुम्बई के वसई रोड और सिकंदराबाद के लिंगापल्ली से रवाना होकर लालगढ़ स्टेशन पहुंची इन श्रमिक ट्रेनों में आ रहे यात्रियों की अगवानी के लिए जिला प्रशासन और राज्य सरकार के कर्मचारी थे।उनके सहयोग के लिए टीटीई स्टाफ को तैनात किया गया था। टीटीई को पीपीई किट नहीं दिए जाने की सूचना मिलने के बाद टीटीई एसोसिएशन ने अपने स्तर पर हैड शीट खरीदकर टीटीई स्टाफ(tte staff) में वितरित की। टीटीई स्टाफ में इस बात का रोष है कि रेलवे के पास कोरोना सुरक्षा के लिए इतना बड़ा बजट होते हुए भी पीपीई किट की व्यवस्था नहीं की। उल्लेखनीय है कि बीकानेर के कर्म चारियों के सहयोग से टीटीई एसोसिएशन ने लगभग एक लाख रुपए का चंदा वाणिज्य शाखा में जमा करवाया था। पूरे डिवीजन से राशि एकत्रित कर एसोसिएशन ने साढ़े तीन लाख रुपए जमा करवाए। इसके अलावा रेलवे ने बीकानेर डिवीजन को कोरोना संकट से निपटने के लिए मण्डल स्वास्थ्य अधीक्षक को 80 लाख रुपए का बजट दिया है। इसके बावजूद कर्मचारियों को किट उपलब्ध नहंीं करवाया जा रहा। जबकि चण्डीगढ़ में श्रमिग एक्सप्रेस ट्रेन की रवानगी के समय पूरे स्टाफ को पीपीई किट दिए गए थे। सोमवार शाम को लालगढ़ से देवरिया के लिएरवाना होने वाली श्रमिक एक्स्प्रेस के लिए टीटीई स्टाफ (tte staff)को मय वर्दी पहुंचने को कहा गया है।
श्रमिक एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन के आगमन और रवानगी के समय राज्य सरकार की ही कार्य संचालित करने की जिम्मेदारी है। रेलवे केेेेेेे कर्मचारी केवल सहयोग के लिए है। चुंकि यात्रियों की टिकट चैक नहीं की जाती और केवल उद्घोाषणाएं करवाना या समन्वय जैसा ही काम किया जा रहा है, ऐसे में मुझे नहीं लगता कि पीपीई किट की जरूरत हो। रेलवे की ओर से मास्क व सैनिटाइजर उपलब्ध करवाए गए हैं।–जितेन्द्र मीणा, वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबंधक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here