senior citizen concession :फिर कब मिलेगी वरिष्ठ नागरिकों को रेल किराए में रियायत!

senior-citizen-concession

-श्याम मारू-
बीकानेर। देश ही नहीं पूरा विश्व अब कोरोना महामारी से धीरे-धीरे उबर रहा है। जीवन अब पटरियों पर सरपट दौड़ने लगा है। मार्च 2020 में कोरोना महामारी के कारण बंद की गई रेलगाड़ियां स्पीड पकड़ चुकी है। अब तो स्पेशल टैग से चल रही ट्रेनें अब बिना शून्य नम्बर के सामान्य नियमित नम्बरों से चल रही है। भारतीय रेलवे (indian railway) में सबकुछ सामान्य हो चला है लेकिन वरिष्ठों (senior citizen concession) के प्रति भारतीय रेलवे का दिल अभी तक पसीजा नहीं है। वरिष्ठ नागरिकों के लिए रेल किराए (senior citizen concession) में रियायतें अभी तक बहाल नहीं हुई है। भारतीय रेलवे वरिष्ठ नागरिकों, छात्रों, खिलाड़ियों, चिकित्सा पेशेवरों आदि के लिए 53 श्रेणियों को रियायतें प्रदान करता है। चार श्रेणियों के दिव्यांगजनों और 11 श्रेणियों के रोगियों और छात्रों को छोड़कर सभी श्रेणियों में रियायतें बंद है। रेलवे की रियायती टिकट सुविधा (senior citizen concession) नहीं मिलने से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, खास कर सीनियर सिटीजंस यात्रियों को। रेलवे के नियमों के अनुसार, अगर किसी महिला की उम्र 58 साल है और किसी पुरुष की उम्र कम से कम 60 साल है तो उन्हें वरिष्ठ नागरिक की श्रेणी में गिना जाता है.।

senior-citizen-concession 1

सीनियर सिटीजंस रियायत senior citizen concession

मार्च 2020 से पहले ऐसे लोगों को सीनियर सिटीजन कोटे का फायदा मिलता था और किराए पर महिला यात्रियों को 50 प्रतिशत और पुरुष यात्रियों को 40 प्रतिशत की छूट दी जाती थी। सबसे प्रमुख बात यह है, ये रियायतें पुनः कब शुरू होगी, इस बारे में भारतीय रेलवे की अभी तक कोई योजना नहीं है। इस बारे में कोई मुंह खोलने को तैयार नहीं, यहां तक रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव ने भी हाल ही शीतकालीन सत्र में कहा था कि फिलहाल रेलवे का ऐसी छूट फिर से शुरू करने का कोई विचार नहीं है।

senior-citizen-concession 2
इन श्रेणियों में मिलती है रियायतें

शारीरिक रूप से दिव्यांग व्यक्ति को अपने साथ एक शख्स को ले जाने की इजाजत होती है और उन्हें 3 एसी, चेयरकार, शयनयान और सैकेंड क्लास में 75 फीसदी, फर्स्ट एसी और सैकेंड एसी में 50 प्रतिशत, राजधानी/शताब्दी गाड़ियों की 3 एसी और चेयरकार में 25 प्रतिशत की छूट होती है। इलाज के लिए जा रहे कैंसर रोगी और एक अटेंडेंट को सैकेंड क्लास, प्रथम श्रेणी, चेयरकार में 75 प्रतिशत, शयनयान और 3 एसी में 100 प्रतिशत, फर्स्ट एसी और सैकेंड एसी में 50 प्रतिशत की छूट मिलती है। वहीं, थैलीसीमिया रोगियों को सैकेंड क्लास, शयनयान, प्रथम श्रेणी, 3 एसी, चेयरकार में 75 प्रतिशत फर्स्ट एसी और सैकेंड एसी में 50 प्रतिशत की छूट मिलती है। इसके अलावा हार्ट सर्जरी, डायलेसिस, हैमोफीलिया, टीबी के मरीजों को भी छूट मिलती है। युद्ध शहीदों की विधवाओं, आतंकवादियों और उग्रवादियों के विरुद्ध कार्रवाई में शहीद हुए पुलिस कर्मियों और अर्द्धसेना कार्मिकों की विधवाओं, आतंकवादियों और उग्रवादियों के विरुद्ध कार्रवाई में शहीद हुए पुलिस कर्मियों आदि को 75 फीसदी तक छूट मिलती है। होम टाउन या एजुकेशन ट्यूर पर जाने वाले जनरल कैटेगरी के स्टूडेंट्स को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 50 प्रतिशत, एससी- एसटी कैटेगरी के स्टूडेंट्स को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 75ः छूट मिलती है. वहीं, ग्रेजुएट तक लड़कियों और 12 वीं कक्षा तक लड़के (मदरसा के छात्रों सहित) घर और स्कूल के बीच को फ्री सैकेंड क्लास एमएसटी, ग्रामीण क्षेत्रों के सरकारी स्कूलों के छात्रों को साल में एक बार एजुकेशन ट्यूर के लिए दूसरे दर्जे में 75 प्रतिशत, मेडिकल, इंजीनियरी आदि प्रवेश परीक्षा के लिए जाने वाली ग्रामीण क्षेत्रों की सरकारी स्कूलों की लड़कियों को दूसरे दर्जे में 75 प्रतिशत, यूपीएससी, एसएससी की मेंस परीक्षा में शामिल होने वाले स्टूडेंट्स को दूसरे दर्जे में 50 प्रतिशत, रिसर्च वर्क के लिए जाने वाले 35 साल तक के रिसर्चर्स को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 50 प्रतिशत की छूट मिलती है। राष्ट्रीय युवा परियोजना, मानव उत्थान सेवा समिति के शिविर में हिस्सा लेने के लिए जाने वाले युवाओं को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 50ः, सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरी में इंटरव्यू के लिए जाने वाले बेरोजगार युवाओं को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 50ः छूट मिलती है.कृषि/औद्योगिक प्रदर्शनियों में जाने के लिए किसान और औद्योगिक श्रमिक को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 25ः, सरकार द्वारा प्रायोजित विशेष गाड़ियों में यात्रा करने वाले किसानों को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 33ः, बेहतर फार्मिंग/डेयरी अध्ययन/ प्रशिक्षण के लिए राष्ट्रीय स्तर के संस्थानों का दौरा करने के लिए किसान एवं दुग्ध उत्पादकों को सैकेंड क्लास और शयनयान श्रेणी में 50 प्रतिशत की छूट मिलती है।

Vijay Sharma, GM,NWR
-यह फैसला रेलवे बोर्ड का है। जिस दिन रेलवे बोर्ड आदेश जारी करेगा, उसी दिन से सिनीयर सिटीजन्स समेत समस्त श्रेणियों में रेल किराए में रियायत शुरू कर दी जाएगी।- विजय शर्मा,महाप्रबंधक,उत्तर पश्चिम रेलवे जोन