ramayana express: भगवान राम से जुड़े स्थलों की रेलयात्रा

0
10


नई दिल्ली।भगवान राम से जुड़े धार्मिक स्थलों की यात्रा कराने वाली रामायण एक्सप्रेस(ramayana express) इस साल भी चलेगी। पिछले साल यह रामायण एक्सप्रेस यात्रा सफल रही थी। यह रामायण एक्सप्रेस (ramayana express) भारत और श्रीलंका में भगवान राम के जीवन से जुड़े स्थलों पर लेकर जाती है। भारत की रामायण यात्रा ट्रेन के माध्यम से जबकि श्रीलंका की यात्रा चेन्नई से विमान के जरिए होगी। रेलवे ने शुक्रवार को बताया कि रेलवे की कैटरिंग एवं पर्यटन कॉर्पाेरेशन आईआरसीटीसी ने 2018 में विशेष पर्यटन ट्रेनों से रामायण एक्सप्रेस (ramayana express) के चार पैकेज चलाए थे। पिछले बार की तरह ही इस साल भी नवंबर में दो यात्रा पैकेज आएगा। भारतीय स्थलों की 16 दिन और 17 रात की यात्रा का कुल खर्चा जहां प्रत्एक यात्री को 16,065 जमा करना होगा। वहीं श्रीलंका जाने वालों को 36,950 रुपए प्रति व्यक्ति देना होगा।

पहली ट्रेन जयपुर से

पहली ट्रेन रामायण यात्रा तीन नवंबर को राजस्थान के जयपुर से रवाना होगी और दिल्ली से होते हुए गुजरेगी। 16 दिन और 17 रात की इस यात्रा में श्रीलंका में रामायण से जुड़े स्थल भी शामिल हैं। वहीं दूसरी ट्रेन रामायण एक्सप्रेस मध्य प्रदेश के इंदौर से 18 नवंबर को यात्रा शुरू करेगी और वाराणसी से होकर गुजरेगी। वहीं इसी तरह की एक अन्य ट्रेन मदुरै से आने वाले महीनों में रवाना होगी। पिछले साल पहली बार 14 दिसंबर को दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से भारत और श्रीलंका के लिए यात्रा शुरू हुई थी और सारी सीटें भरी हुई थी। भारतीय स्थलों में अयोध्या का राम जन्मभूमि और हनुमानगढ़ी, नंदीग्राम का भारत मंदिर, बिहार में सीतामढ़ी का सीता माता मंदिर, वाराणसी का तुलसी मानस मंदिर और संकट मोचन मंदिर, उत्तर प्रदेश में सीतामढ़ी का सीता समाहित स्थल, त्रिवेणी संगम, हनुमान मंदिर और प्रयाग का भारद्वाज आश्रम तथा श्रृंगवेरपुर में श्रृंगी ऋषि मंदिर, चित्रकुट में रामघाट और सती अनुसुय्या मंदिर, नासिक में पंचवटी, हम्पी अनजनद्री हिल और हनुमान जन्म स्थल तथा रामेश्वरम में ज्योतिर्लिंग शिव मंदिर शामिल है। श्रीलंका में सीता माता मंदिर, अशोक वाटिका, विभिषण मंदिर और मुन्नेश्वर-मुन्नावरी का शिव मंदिर समेत कई स्थल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here