rail scrap : एनडब्ल्यूआर ने कबाड़ से कमाए 237 करोड़ रुपए

rail scrap

-रेल संदेश ब्यूरो-
जयपुर। रेल परिसरों में अनुपयोगी तथा व्यर्थ पडे कबाड (rail scrap) के निस्तारण करने के लिए अनेक कार्य किये जा रहे है जिससे इनके हटने से सुरक्षा में वृद्धि होने के साथ-साथ परिसरों में स्वच्छता को भी सुनिश्चित किया जा सकें। उत्तर पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक विजय शर्मा के दिशा-निर्देशों तथा प्रयासों से उत्तर पश्चिम रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में अनुपयोगी तथा व्यर्थ पड़े कबाड (rail scrap) को बेचकर फरवरी 2022 तक 237 करोड़ रूपये आय का अर्जन किया है। उल्लेखनीय है कि उत्तर पश्चिम रेलवे ने गत वर्ष फरवरी माह तक स्क्रैप (rail scrap) निस्तारण से 76 करोड रूपये की अधिक आय अर्जित की है।

Vijay Sharma, GM,NWR
उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरण के अनुसार भण्डार विभाग द्वारा फील्ड यूनिट्स से पुराने कबाड़ को हटाने तथा बेचने के लिए अभियान के तहत कार्य किया जा रहा है। भण्डार विभाग द्वारा वित्तीय वर्ष में फरवरी माह तक अजमेर मंडल एवं अजमेर डिपो पर 106.18 करोड़, बीकानेर मंडल एवं बीकानेर डिपो पर 18.83 करोड़, जोधपुर मंडल एवं जोधपुर डिपो पर 57.85 करोड़ तथा जयपुर मंडल पर 53.82 करोड़ सहित उत्तर पश्चिम रेलवे पर 237 करोड़ रूपये के कबाड (स्क्रैप) का निस्तारण किया जोकि गत वर्ष की इसी अवधि से 76 करोड़ अधिक है।

nwr headquarter
उत्तर पश्चिम रेलवे को इस वर्ष कबाड (स्क्रैप) निस्तारण से 230 करोड़ रूपये की आय अर्जित करने का लक्ष्य प्रदान किया गया था, जिसे 1 माह शेष रहते ही पार कर लिया गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर स्क्रैप के निस्तारण के लिए मिशन मोड़ पर कार्य किया जा रहा है। इसके तहत सभी मंडलों पर वर्ष 2021दृ22 के अंत तक जीरो स्क्रैप का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। देश में महामारी कि संकट की स्थिति के दौरान भी उत्तर पश्चिम रेलवे की यह एक बड़ी उपलब्धि है।