बंगाल -ओडिशा के बीच तीसरी रेलवे लाइन

rail line

नई दिल्ली। केन्द्रीय मंत्रिमण्डल की ओर से मंजूर पश्चिम बंगाल के नारायणगढ़ और ओडिशा के भद्रक के बीच तीसरी रेल लाइन के निर्माण के लिए बजट आवंटन की तैयारियां भी शुरू हो गई है। पश्चिम बंगाल से जुड़े भारतीय जनता पार्टी के एक पांच सदस्यीय प्रतिनिधि मण्डल ने रेल मंत्री से मुलकात कर इस परियोजना के लिए शीघ्र बजट मुहैया करवाने का आग्रह किया। उल्लेखनीय है कि आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने गुरूवार को इस तीसरी रेल लाइन की मंजूरी प्रदान कर दी थी। इस तीसरी रेल लाइन के बनने के बाद इस खण्ड में कई नई रेलगाड़ियों को भी चलाया जा सकेगा। तीसरी रेल लाइन के लिए काफी समय से मांग की जा रही थी। इसे लेकर रेलवे बोर्ड भी काफी गम्भीर था।

2023-24 तक पूरा होगा प्रोजेक्ट

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी देने के बाद वित्त मंत्री अरूण जेटली ने बताया कि नई 155 किलोमीटर लाइन का निर्माण होने पर इस मार्ग पर रेलगाड़ियों की भीड़भाड़ को कम करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि तीसरी लाइन का निर्माण होने पर अतिरिक्त क्षमता सृजित करने के साथ वर्तमान एवं अतिरिक्त यातायात से निपटने में भी मदद मिलेगी। सरकारी अनुमानों के अनुसार, इस परियोजना पर 1866.31 करोड़ रूपए की लागत आएगी और इसे 2023..24 तक पूरा किया जा सकेगा। इससे 37.2 लाख मानव दिवस का रोजगार सृजित होने का अनुमान है।

मुम्बई शहरी परिवहन परियोजना

नई दिल्ली। आर्थिक मामलों की केन्द्रीय मंत्रिमण्डल की समिति ने मुम्बई शहरी परिवहन परियोजना के चरण-3ए को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, इस परियोजना पर अनुमानित खर्च 30,849 करोड़ रूपए आएगा। यह परियोजना पांच वर्ष में पूरा होने का अनुमान है। इस परियोजना में वातानुकूलित कोच, स्वचालित दरवाजे और पैदल चलने वालों की सुरक्षा की बेहतर व्यवस्था बनाने की बात कही गई है।