rail concession : रेलवे ने बंद किए रियायती टिकट

-रेलवे में रियायत  (rail concession) नहीं मिलने से सीनियर सिटीजन सबसे ज्यादा प्रभावित
-श्याम मारू-
बीकानेर। रेलवे ने सभी रियायतें बंद कर दी है। यात्रा के दौरान मिलने वाली रेल रियायतों  (rail concession) से टिकट का पैसा कम लगता और लोग अपेक्षाकृत ज्यादा प्रेरित होते थे। कोरोना काल में पिछले मार्च से बंद ट्रेनों का संचालन शुरू तो कर दिया गया है लेकिन इनमें विभिन्न रेल रियायतों को फिलहाल बंद कर दिया गया है। सीनियर सिटीजन महिला, सीनियर सिटीजन पुरूष, दिव्यांग समेत मेडिकल आधार पर मिलने वाली अधिकांश रेल टिकट में रियायत (rail concession)  बंद कर दी गई है। कुछ ट्रेनों में अधिस्वीकृत पत्रकारों को भी रियायत नहीं मिल रही। ये सब हुआ है स्पेशल के कारण। जबसे रेलवे ने स्पेशल ट्रेनें शुरू की हैं तब से ही सेम रूट-सेम स्टाॅपेज और सेम दूरी होने के बावजूद स्पेशल का किराया अपेक्षाकृत ज्यादा रखा गया है। किराए में सीनियर सिटीजन मेल को 40 प्रतिशत और सीनियर सिटीजन फिमेल को 50 प्रतिशत छूट मिलती है। वरिष्ठ नागरिकों को अब किराए का पूरा भुगतान करके ही यात्रा करनी होगी। हालांकि रेलवे ने उनकी नीचे की बर्थ पर कोई कटौती नहीं की है। यह उन्हें पूर्व की भंांति नीचे की बर्थ पर प्राथमिकता मिलती रहेगी। इसके अलावा मेडिकल आधार पर मिलने वाली विभिन्न छूटों पर भी रेलवे (railway) ने ताला लगा दिया है। अधिस्वीकृत पत्रकारों को कई ट्रेनों में छूट से वंचित कर दिया गया है। इन्हें भी अब पूरा किराया देकर ही यात्रा करनी होगी। बुजुर्गों के अलावा सर्वाधिक प्रभावित होने वाला वर्ग है मरीज। मेडिकल आधार पर उन्हें विभिन्न श्रेणी में विभिन्न प्रतिशत तक रियायत मिलती है। कुछ वर्गों में 75 प्रतिशत से 100 प्रतिशत तक छूट मिलती है। इसी प्रकार दिव्यांग श्रेणी के किरायों में कोई छूट नहीं दी जा रही।

किराया विश्लेषण (rail concession)

बीकानेर से दिल्ली वाया (रतनगढ़-चूरू)
सैकण्ड एसी                      सामान्य                 स्पेशल
अधिस्वीकृत पत्रकार              600                  1550
वरिष्ठ नागरिक पुरूष             700                  1550
वरिष्ठ नागरिक महिला            600                 1550
थर्ड एसी
अधिस्वीकृत पत्रकार             440                  1050
वरिष्ठ नागरिक पुरूष            510                  1050
वरिष्ठ नागरिक महिला           440                 1050