gondia superfast : गोंदिया-मुम्बई सुपर फास्ट स्पेशल 10 अक्टूबर से डेली

श्याम मारू-
बिलासपुर। रेल (rail) यात्रियों की सुविधाओं एवं मांग को ध्यान में रखते हुए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे नागपुर मण्डल के अंतर्गत चलने वाली 02105/02106 मुंबई-गोंदिया-मुंबई सुपर फास्ट स्पेशल ट्रेन (gondia superfast) 09 अक्टूबर, 2020 से गोंदिया से और 10 अक्टूबर, 2020 से मुंबई से प्रतिदिन चलेगी । यह स्पेशल पूरी तरह से आरक्षित ट्रेनों के रूप में चलेगी। यह स्पेशल ट्रेन अगले आदेश तक 09 अक्टूबर, 2020 से गोंदिया-मुंबई-गोंदिया के बीच एक और दैनिक विशेष ट्रेन चलाने का निर्णय लिया गया है। गाड़ी संख्या 02105 मुंबई-गोंदिया सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन (gondia superfast) आगामी आदेश तक छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस से 09 अक्टूबर, 2020 से रवाना होगी और अगले दिन गोंदिया पहुंचेगी। इसी प्रकार गाड़ी संख्या 02106 गोंदिया-मुंबई सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन गोंदिया से 10 अक्टूबर, 2020 से रवाना होगी और अगले दिन छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पहुंचेगी। गोंदिया सुपरफास्ट ट्रेन (gondia superfast) को चलाने की मांग काफी समय से की जा रही थी। इसके चलने से मुम्बई से गोंदिया तक आने-जाने वाले यात्रियों को काफी फायदा होगा। इस रेलगाड़ी के रेगुलर गोंदिया सुपरफास्ट ट्रेन के ठहराव में थोड़ा परिवर्तन किया है और इगतपुरी स्टेशन को छोड़कर यह स्पेशल ट्रेन नियमित ट्रेन विदर्भ एक्सप्रेस 2105/12106 मुंबई-गोंदिया-मुंबई के समय व ठहराव के अनुसार ही चलेगी । इस ट्रेन में 10 स्लीपर क्लास, 05 थर्ड एसी टीयर, 03 सैकण्ड एसी , 01 फर्स्ट एसी और 5 आरक्षित सेकंड क्लास सीटिंग कोच रहेगें। इस विशेष गाड़ी में यात्रियों को केवल कन्फर्म टिकट ही मिल सकेगी। यात्रियों को यात्रा के दौरान कोविड-19 से संबंधित नियमावली का पालन करना जरूरी होगा।
कोरोना से बचाव के लिए शपथ ली: दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, मुख्यालय सहित तीनों रेल मंडलो बिलासपुर, रायपुर एवं नागपुर के लगभग 15 हजार से भी अधिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कोरोना को लेकर शुरू किए गये राष्ट्रव्यापी जनआंदोलन के तहत कोरोना से बचाव को लेकर शपथ ली। कोरोना से बचाव को लेकर आयोजित वर्चुअल शपथ समारोह में रेल मंत्री पीयूष गोयल सीआरबी वी.के. यादव, तथा सभी रेलवे जोन के महाप्रबंधकों एवं प्रोडक्शन यूनिटों के अधिकारियों के साथ कोरोना वायरस के संक्रमण एवं प्रभाव को रोकने के लिए शपथली।