medical equipment:रेलवे बनाएगा मेडिकल उपकरण

-मेडिकल उपकरण (medical equipment) बनेंगे रेलवे फैक्ट्रियों में
–निर्माण इकाइयों से संभावना का पता लगाने को कहा
-श्याम मारू-
नई दिल्ली
। भारतीय रेलवे हर संकट से जूझने के लिए तैयार है। अपने सामाजिक सरोकार के तहत देश के प्रत्येक आयोजन में बढ़चढक़र हिस्सा लेता रहा है। हाल ही कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए प्रत्येक सवारी रेलगाडिय़ों का संचालन स्थगित कर दिया है। ऐसा 1974 की हड़ताल में भी संचालन नहीं रुका था। ताजा परिस्थितियों में रेलवे अस्पतालों में काम आने वाले समस्त मेडिकल उपकरणों (medical equipment) सामान का निर्माण करेगा। इसके लिए रेलवे ने सभी उत्पादन इकाइयों को निर्माण की सम्भावनाओ को पता लगाने को कहा है। रेलवे बोर्ड ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में योगदान के लिए अपनी सभी निर्माण इकाइयों को निर्देश जारी कर अस्पताल के सामान्य बेड, मेडिकल ट्रॉली और पृथक सुविधाएं तथा आईवी स्टैंड जैसे मेडिकल उपकरण (medical equipment) के निर्माण की संभावना का पता लगाने को कहा है। ताकि कोरोना वायरस जैसी ही महामारी फैलने पर मुकाबला किया जा सके। रेलवे ने चितरंजन लोको वक्र्स, चितरंजन, इंटिग्रल कोच फैक्टरी, चेन्नई, रेल कोच फैक्टरी , कपूरथला, डीजल लोको वक्र्स, वाराणसी और रेल पहिया कारखाना, एलेखाना में निर्माण इकाइयों के सभी महाप्रबंधकों को आदेश जारी कर जरूरी सामान के निर्माण के लिए कहा है जिसका इस्तेमाल इस महामारी के प्रभावित लोगों के उपचार के लिए किया जा सके।

मेडिकल उपकरण (medical equipment) के लिए परामर्श

आदेश में कहा गया, रेलवे बोर्ड ने इन निर्माण इकाइयों के महाप्रबंधकों को आवश्यक निर्देश जारी कर अस्पताल के बेड (बिना गद्दे का), मेडिकल टॉली और पृथक सुविधाएं, आईवी स्टैंड, स्ट्रैचर, अस्पताल फुटस्टेप, बेडसाइड लॉकर, स्टैंड के साथ वॉश बेसिन, वेंटिलेटर, मास्क, सेनेटाइजर, वाटर टैंक जैसे सामान के निर्माण की संभावना का पता लगाने को कहा है। आदेश में कहा गया, रेलवे बोर्ड ने महाप्रबंधकों को जोन के मुख्य चिकित्सा अधिकारी के साथ परामर्श कर इसकी संभावना का पता लगाने और बड़े पैमाने पर इसके उत्पादन के लिए कहा है।