kisan rail :छिंदवाड़ा से तिनसुकीया तक चली किसान रेल

-किसान रेल (kisan rail)  ने ढोया 190 टन फल-सब्जी
-रेल संदेश ब्यूरो-
बिलासपुर। जल्दी खराब होने वाले फल एवं सब्जियों जैसे उत्पादों को देश के कोने-कोने तक कम भाड़े में उपलब्ध कराने के उद्देश्य से दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अंतर्गत नागपुर रेल मण्डल की ओर से छिंदवाड़ा से पूर्व में दो बार किसान रेल (kisan rail)  चलाई गई थी, ताकि किसानों की आय दुगनी हो तथा किसानों के साथ-साथ उपभोक्ताओं को भी इसका लाभ मिल सकें। इसी तर्ज पर नागपुर रेल मण्डल द्वारा पुनः छिंदवाड़ा से तिनसुकिया तक के लिए 50 प्रतिशत छूट के साथ एक लंबी दूरी (2769 किमी) तय करने वाली किसान रेल (kisan rail)  का परिचालन 14 जनवरी’ 2021 को छिंदवाड़ा से शाम 5 बजे किया गया । यह किसान रेल (kisan rail) छिंदवाड़ा से सौसर-इतवारी-भंडाररोड़-गोंदिया-रायपुर-खड़गपुर-मालदा मार्ग से तिनसुकिया तक चली, सड़क परिवहन की अपेक्षा रेल द्वारा सुगमता, त्वरित व कम भाड़े में लंबी दूरी तक पार्सल की ढुलाई सुनिश्चित करने में सहायक सिद्ध हो रहा है एवं साथ ही किसान रेल किसानों और कारोबारियों के लिए उनके उत्पादों की अच्छी कीमत दिलाने में भी मददगार साबित होगा।
इस किसान रेल क्र. 00885 (छिंदवाड़ा-तिनसुकिया) में नागपुर मण्डल द्वारा में छिंदवाड़ा से 100 टन तथा इतवारी से 68.43 टन पार्सल लदान किया गया। इसके अलावा दुर्ग से 8.33 टन, रायपुर से 3.6 टन तथा बिलासपुर से 9.42 टन पार्सल लदान बुक किया गया । इस प्रकार इस किसान रेल द्वारा नागपुर, रायपुर व बिलासपुर मण्डल से कुल 189.78 टन पार्सल लदान किया गया।
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के नागपुर मण्डल के तहत छिंदवाड़ा (मध्यप्रदेश) से तिनसुखिया (असम) तक प्याज, संतरे और अन्य पेरीशबल्स का परिवहन करते हुए लंबी दूरी तय करने वाले किसान रेल के माध्यम से कम लागत पर अपने उपज नए संभावित मार्केट तक भेजने की दिशा में कार्य कर किसानों को लाभान्वित करने का हर संभव प्रयास किया गया ,भारतीय रेलवे के साथ-साथ दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे किसानों की सेवा के लिए सदैव प्रतिबद्ध है ।