Intermediate Block Signaling System : अब ट्रेन क्रासिंग पर नहीं लगेगा समय

Intermediate Block Signaling System

– रेलवे में इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम (Intermediate Block Signaling System) प्रारम्भ
-रेल संदेश डेस्क-
बीकानेर। दो ट्रेनों के बीच क्रासिंग के लिए लगने वाले समय को कम करने के लिए भारतीय रेलवे की ओर से इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम (आईबीएस) (Intermediate Block Signaling System) जैसी आधुनिक व नवीनतम तकनीक का उपयोग शुरू किया जा रहा है। इसी कड़ी में उत्तर पश्चिम रेलवे पर आधुनिक व नवीनतम तकनीक (Intermediate Block Signaling System)का उपयोग किया जा रहा है। उच्च तकनीकयुक्त सिगनल प्रणाली को अपनाते हुये उत्तर पश्चिम रेलवे के महत्वपूर्ण रेलखण्डों पर इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम (आईबीएस) (Intermediate Block Signaling System) स्थापित किया जा रहा है।
उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार एब्सोल्यूट ब्लॉक सिस्टम में दो स्टेशनों के बीच केवल एक ही ट्रेन चलने की अनुमति दी जाती है, जिससे लाइन क्षमता काफी हद तक सीमित हो जाती है। दो स्टेशनों के बीच लाइन क्षमता को बढ़ाने के लिए इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम (आईबीएस) का उपयोग किया जा रहा है जो ब्लॉक सेक्शन को दो भागों में विभाजित करता है। इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग (आईबीएस) के उपयोग से संरक्षा को सुनिश्चित करते हुए दो स्टेशनों के बीच एक ही दिशा में दो ट्रेनों की अनुमति प्रदान की जाती है। इससे रेल संचालन में स्टेशन पर ट्रेन को क्रासिंग पर खडे रहने वाले समय की बचत होती है। साथ ही दो स्टेशनों के बीच एक ही दिशा में दो ट्रेनों के संचालन से लाइन क्षमता में वृद्धि होती है, जिससे अधिक संख्या में ट्रेनों के संचालन को सुनिश्चित किया जा सकता है।
उत्तर पश्चिम रेलवे के 15 रेलखण्डों पर यह सिगनल प्रणाली लगाई जा चुकी है तथा 2 पर कार्य प्रगति पर है। अभी हाल ही में जयपुर मण्डल के फुलेरा-अजमेर रेलमार्ग के साखुन-नरेना रेलखंड में इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग (आईबीएस) सिस्टम को प्रारम्भ किया गया है।
जयपुर मण्डल के निम्न रेलखण्डों में इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग (आईबीएस) सिस्टम प्रारम्भ किया गया है-
1. जयपुर-कनकपुरा
2. अरनिया-भाखरी
3. बावल-अजरका
4. अजरका-हरसौली
5. पडीसल-खैरथल
6. नरेना-साखुन
7. साखुन-गहलोता
अजमेर मण्डल के निम्न रेलखण्डों में इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग (आईबीएस) सिस्टम प्रारम्भ किया गया है-
1. सराधना-मांगलियावास
2. मांगलियावास-खरवा
3. खरवा-बांगडग्राम
4. चन्दावल-बगडीनगर
5. सोजत रोड-धारेश्वर
6. अउवा-भीनवालिया
7. जवाली-रानी
8. नाना-मोरीबेडा