indian railway: हर दिन 1000 पीपीई-पोशाक के निर्माण का लक्ष्य

0
28

-जगाधरी कारखाने में तैयार किए जा रहे हैं पीपीई-पोशाक
-लगभग 17 कार्यशालाएं भी जल्द ही निर्माण कार्य शुरू करेंगी

-श्याम मारू-
नई दिल्ली।
कोरोना वायरस से मुकाबले में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों के लिए भारतीय रेलवे (indian railway)आगे आया है। डाक्टरों, कम्पाउडरों, नर्सिंग स्टाफ व चिकित्साकर्म से जुड़े अन्य लोगों के लिए भारतीय रेलवे (indian railway)पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट यानी पीपीई के निर्माण में जुट गया है। भारतीय रेलवे (indian railway)ने अपनी कार्यशालाओं में पीपीई-पोशाक के उत्पादन की शुरूआत कर दी है। जगाधरी कार्यशाला में तैयार पीपीई-पोशाक को हाल ही में डीआरडीओ से मंजूरी मिली है। डीआरडीओ इस कार्य के लिए अधिकृत संस्था है। मंजूर किए गए डिजाइन और सामग्री के आधार पर विभिन्न जोन स्थित कार्यशालाएं सुरक्षा प्रदान करने वाली इन पोशाकों का निर्माण करेंगी। रेलवे के अस्पतालओं में कोविड-19 मरीजों की देखभाल में जुटे रेलवे के फ्रंटलाइन डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों को इस पीपीई-पोशाक से काफी सहायता प्राप्त होगी। रेलवे के डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों के लिए इन सुरक्षात्मक पोशाकों के निर्माण के लिए सुविधाएं तैयार की जा रही हैं जहां प्रतिदिन 1000 पोशाकों का उत्पादन किया जाएगा। लगभग 17 कार्यशालाएं इस कार्य में योगदान देने के लिए प्रयासरत हैं। भारतीय रेलवे ने पीपीई-पोशाक के कुल उत्पादन के 50 प्रतिशत पीपीई पोशाक देश के अन्य चिकित्साकर्मियों के लिए उपलब्ध कराएगा। पोशाक के लिए सामग्री की खरीद केन्द्रीकृत रूप में जगाधरी कार्यशाला द्वारा की जा रही है, जो पंजाब के कई बड़े कपड़ा उद्योगों के निकट स्थित है। आनेवाले दिनों में उत्पादन सुविधाओं को और बढ़ाया जाएगा। इस पोशाक के विकास और भारतीय रेलवे (indian railway) के नवाचार को कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में जुटे अन्य सरकारी एजेंसियों द्वारा भी स्वागत किया जा रहा है। इस पीपीई-पोशाक के तकनीकी विवरण और सामग्री आपूर्तिकर्ता दोनों तैयार हैं। अब उत्पादन सही तरीके से शुरू किया जा सकता है। यह पोशाक कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में जुटे डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों को सुरक्षा प्रदान करने में प्रोत्साहन प्रदान करेगा। उल्लेखनीय है कि रेलवे का यह आंतरिक प्रयास भारत सरकार को किए गए एक अनुरोध पर आधारित है और मांग के अनुरूप एचएलएल को भी जानकारी दी गई है। इतने कम समय में पीपीई का विकास करना एक उल्लेखनीय उपलब्धि है, जिसका अनुसरण अन्य एजेंसियां बी करना चाहेंगी। इससे फ्रंटलाइन चिकित्साकर्मियों के लिए जरूरी सुरक्षात्मक पोशाक के उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here