haridwar metro : हरिद्वार और ऋषिकेश की वादियों में दौड़ेगी मेट्रो ट्रेन

-श्याम मारू-
बीकानेर। हरिद्वार और ऋषिकेश के बीच में मेट्रो रेल (haridwar metro) चलेगी। धार्मिक पर्यटन को और बढ़ावा देने के लिए यह मेट्रो रेल चलाई जा रही है। हरिद्वार से ऋषिकेश के बीच लगभग 32 किलोमीटर लंबे ट्रैक पर कुल 10 स्टेशन बनाए जाएंगे। इसके अंतर्गत पहला मेट्रो (haridwar metro) का स्टेशन हरिद्वार के पुल जटवाड़ा के पास तथा अंतिम स्टेशन ऋषिकेश के चंद्रभागा पुल के पास बनाया जाएगा। पिछले दिनों उतराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में यूनिफाइड मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी में बैठक मैं यह निर्णय लिया गया है। मेट्रो (haridwar metro) बनने से यातायात में काफी सुधार होगा और जाम की समस्या से भी राहत मिलेगी। इसी को देखते हुए सरकार ने मेट्रो प्रोजेक्ट को मंजूरी दी है।

ridwar-metro-02

पहला स्टेशन ज्वालापुर के पास

इसका सबसे पहला स्टेशन ज्वालापुर हरिद्वार में पुल जटवाड़ा के पास बनेगा। ज्वालापुर से शुरू होकर मेट्रो हरिद्वार शहर के प्रमुख इलाको को कवर करेगी। हरिद्वार में रेलवे स्टेशन, बस स्टेण्ड,, हर की पैडी के पास से होकर हरिद्वार-ऋषिकेश मार्ग के समानांतर निकलते हुए इस मेट्रो का अंतिम छोर ऋषिकेश में चंद्रभागा पुल के पास होगा। इसके साथ ही देहरादून के लिए भी मेट्रो रेल के लिए लाइन बिछाई जाएगी। यह लाइन नेपाली फार्म से शुरू होगी और देहरादून में विधानसभा के पास बनने वाले मेट्रो स्टेशन तक जाएगी। यह मेट्रो देहरादून-हरिद्वार- ऋषिकेश के मुख्य इलाकों को कवर करेगी। इस मेट्रो का प्रोजेक्ट दो चरणों में पूरा होगा। पहले चरण में हरिद्वार से ऋषिकेश और देहरादून में आईएसबीटी तक कुल 73 किलोमीटर लंबा मेट्रो ट्रैक बनना है। दूसरे चरण में नेपाली फार्म में एक एक्सचेंज स्टेशन बनेगा जहां से देहरादून के लिए एक अलग लाइन शुरू होगी जिसका दूसरा छोर देहरादून के आईएसबीटी के पास होगा। नेपाली फार्म से आईएसबीटी तक भी 41 किलोमीटर लंबा ट्रेक बनेगा जहां पर कुल 10 स्टेशन बनाए जाएंगे।

haridwar-metro-03

40 किमी होगी मेट्रो (haridwar metro) की रफ्तार

सामान्तया मेट्रो रेल की औसत गति 35 किलोमीटर प्रति घंटे तक ही रहती है। मगर देहरादून से नेपाली फार्म के बीच स्टेशन दूर होने के कारण यहां औसत रफ्तार 40 तक बढ़ाई जा सकती है। उत्तराखंड मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के महाप्रबंधक जितेंद्र त्यागी के मुताबिक मेट्रो का इस्तेमाल यातायात की समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है। इसके लिए अमूमन एक से डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर एक स्टेशन बनाया जाता है। डीएमआरसी की ओर से जो शुरुआती रिपोर्ट तैयार की गई है ,उसके अनुसार देहरादून आईएसबीटी से नेपाली फार्म और फिर हरिद्वार से ऋषिकेश के बीच प्रस्तावित ट्रैक है। वह पूरी तरह से नेशनल हाइवे के साथ साथ में चलेगा। यह पूरा मेट्रो ट्रैक एलिवेटेड रोड की सड़क के ऊपर बनेगा इससे प्रोजेक्ट की लागत कम आएगी।