electrification : विद्युतिकरण में उत्तर पश्चिम रेलवे ने किया कमाल

भारतीय रेलवे के विद्युतिकरण (electrification)  में एनडब्ल्यूआर दूसरे स्थान पर

-रेल संदेश डेस्क-
जयपुर। उत्तर पश्चिम रेलवे में वर्ष 2021-22 में रिकार्ड 680 किलोमीटर ब्राडगेज लाइनों का विद्युतीकरण (electrification) का कार्य पूर्ण किया गया है। वर्ष 2021-22 में विद्युतीकरण (electrification) कार्य पूर्ण करने में उत्तर पश्चिम रेलवे ने सम्पूर्ण भारतीय रेलवे में दक्षिण मध्य रेलवे के बाद द्वितीय स्थान पर रहने की उपलब्धि प्राप्त की है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर अब तक कुल 2864 किलोमीटर मार्ग के विद्युतीकरण (electrification)  कार्य पूर्ण किया जा चुका है।

दिसम्बर 2023 तक सम्पूर्ण विद्युतिकरण का लक्ष्य

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरणने बताया कि महाप्रबन्धक विजय शर्मा के दिशा-निर्देशन में उत्तर पश्चिम रेलवे पर रेल विद्युतीकरण के कार्य तीव्र गति से किये जा रहे है तथा दिसम्बर 2023 तक सभी रेलखण्डों को विद्युतीकृत करने के लक्ष्य पर प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रहा है।

2864 किलोमीटर रेल लाइन पर विद्युतीकरण का कार्य

उत्तर पश्चिम रेलवे पर अब तक 2864 किलोमीटर रेल लाइन पर विद्युतीकरण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर वर्ष 2021-22 में 680 किलोमीटर रेलखण्ड के विद्युतीकरण का कार्य पूरा किया गया, जोकि सम्पूर्ण भारतीय रेलवे पर द्वितीय अधिकतम है।

इन खण्डों में काम पूरा

इस वर्ष अजमेर-दौराई, ब्यावर-गुड़िया, मदार-बाईपास-आदर्शनगर, नोहर-हनुमानगढ, चूरू-रतनगढ, रींगस-सीकर-झुझुंनू-लोहारू, मदार-पुष्कर, रतनगढ़-सरदारशहर-बनीसर, हिसार-सूरतपुरा एवं मारवाड-लूनी-जोधपुर रेलखण्डों का विद्युतीकरण पूर्ण किया गया है।

जोधपुर मण्डल में सभी लाइनें विद्युतिकृत

उत्तर पश्चिम रेलवे के जोधपुर मण्डल के मारवाड-लूनी व लूनी-जोधपुर रेलखण्ड के 104 किलोमीटर मार्ग का रिकार्ड समय में विद्युतीकरण होने के बाद जोधपुर का विद्युतीकृत रेललाइन के साथ सम्पर्क स्थापित हो गया है। इन रेलखण्डों पर विद्युतीकरण कार्य होने के बाद जोधपुर मण्डल भी विद्युतीकृत रेल लाइनों वाले मण्डलों में सम्मिलित हो गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे के सभी चारों मण्डल विद्युतीकृत रेल लाइनों वाले मण्डलों में सम्मिलित है।

electrification.1
47 ट्रेनों को डीजल से इलेक्ट्रिक में बदला

उत्तर पश्चिम रेलवे पर वर्ष 2021-22 में 47 जोडी रेलसेवाओं को डीजल से इलेक्ट्रिक टेªक्शन पर स्विच किया गया है। वर्तमान में उत्तर पश्चिम रेलवे पर कुल 68 जोडी यात्री रेलसेवाएं इलेक्ट्रिक टेªक्शन पर संचालित हो रही है।

लक्ष्यानुसार चल रहा कार्य

पर्यावरण अनुकूल रेल परिवहन की प्रतिबद्धता के तहत भारतीय रेलवे पर दिसम्बर 2023 तक सम्पूर्ण रेलखण्डों के विद्युतीकरण के कार्य को पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर सभी रेलखण्डों के विद्युतीकरण का कार्य स्वीकृत है तथा दिसम्बर 2023 तक सभी रेलखण्डों के विद्युतीकरण के लिये लक्ष्यानुसार कार्य किये जा रहे हैं।