दिल्ली मेट्रो से घायल हुई महिला की हालत खतरे से बाहर

Delhi Metro.

नई दिल्ली। कल सुबह दिल्ली मेट्रो (delhi metro) ट्रेन के दरवाजे में साड़ी अटकने से घायल हुई महिला की हालत अब खतरे से बाहर है। उसका दिल्ली के अस्पताल में इलाज चल रहा है।
दिल्ली मेट्रो (delhi metro) से उतरते समय दरवाजे में साड़ी का पल्लु अटकने से यह महिला ट्रेन के साथ घिसटती चली गई थी, इससे महिला के सिर में चोट आई थी। हालांकि कुछ अन्य मामूली चोटें भी लगी थी लेकिन अब उसका स्वास्थ्य खतरे से बाहर बताया जा रहा है। लोगों ने
दिल्ली मेट्रो (delhi metro) ट्रेन तुरंत रोकने पर चालक की सूुझबूझ की प्रशंषा की है।

ऐसे हुआ हादसा

महिला के पति जगदीश प्रसाद ने कहा, गीता और मेरी बेटी नवादा से आ रही थी। मोती नगर मेट्रो स्टेशन पर उतरते समय गीता की साड़ी का पल्लू ट्रेन के दरवाजे में फंस गया। इससे वह कुछ दूर तक ट्रेन के साथ खिंचती चली गई। प्रसाद ने बताया कि गीता को कुछ चोटें आईं, जिसके बाद उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उन्होंने कहा, मुझे मेरी बेटी ने फोन कर घटना की जानकारी दी। यात्रियों ने ट्रेन रोकने के लिए चालक को अलर्ट करने के वास्ते इमरजेंसी बटन दबा दिया। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) के वरिष्ठ अधिकारी ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि सुबह नौ बजकर 19 मिनट पर मोती नगर मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन से उतरते वक्त महिला की साड़ी दरवाजे में फंस गई। यह ट्रेन वैशाली की ओर जा रही थी। डीएमआरसी ने बताया कि ट्रेन चालक ने तुरंत इमरजेंसी ब्रेक लगाए और ट्रेन को रोका। डीएमआरसी ने कहा, स्टेशन नियंत्रक फौरन घटनास्थल पर पहुंचे जहां यात्री को प्राथमिक उपचार दिया गया और नजदीकी अस्पताल भेजा गया। दिल्ली मेट्रो यात्रियों को सलाह देती है कि वे ट्रेन में चढ़ते और उतरते समय अतिरिक्त सावधानी बरता करें, खासतौर पर व्यस्त समय में। डीएमआरसी ने एक ट्वीट में बताया कि घटना के कारण मोती नगर और राजेंद्र प्लेस स्टेशन के बीच सेवाएं थोड़ी देर के लिए प्रभावित हुईं। डीएमआरसी ने शाम में एक बयान में कहा कि सभी विवरणों का आकलन करने के बाद हमने घटना की जांच के लिए एक जांच समिति गठित की है। जरूरत के हिसाब से उचित कार्वाई की जाएगी। दिल्ली मेट्रो की ब्लू लाइन दिल्ली के द्वारका को नोएडा इलेक्ट्रॉनिक सिटी से जोड़ती है।