rail bonus : नहीं मिला बोनस तो बिना नोटिस रेल हड़ताल

-एआईआरएफ ने फिर दी रेल हड़ताल की धमकी
बीकानेर। आॅल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन (एआईआरएफ) ने रेलमंत्री और रेलवे बोर्ड के सीईओ को कर्मचारियों के बोनस (rail bonus) को लेकर एक बार फिर हड़ताल पर जाने की चेतावनी दे दी है। एआईआरएफ के महासचिव शिव गोपाल मिश्रा  ने रेल मंत्री को स्पष्ट कह दिया कि बोनस (rail bonus) नहीं मिलने से कर्मचारियों में गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। बोनस (rail bonus) में कटौती या टालमटोल की नीति अपनाई गई तो रेलवे के कर्मचारी बिना नोटिस दिए हड़ताल पर चले जाएंगे और रेल का चक्का जाम कर देंगे। इसके अलावा कर्मचारी यूनियनों ने रेल मंत्री  के समक्ष जबरन सेवानिवृत्ति का मामला उठाया है। एआईआरएफ और एनएफआईआर इन दोनों यूनयिनों ने रेल मंत्री को बताया कि 30 वर्ष सेवा देने वाले या 55 वर्ष की उम्र पूरी कर चुके कर्मचारियों की समीक्षा हो रही है। इसको लेकर कर्मचारियों में भय और भ्रम की स्थिति बनी हुई है। रेलवे को इस भ्रम को समाप्त करना होगा।  रेलमंत्री पीयूष गोयल ने स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि यह एक सामान्य प्रक्रिया है, इस पर कुछ काम चल रहा है। कर्मचारियों को घबराने की जरूरत नहीं है बल्कि और मेहनत से अपने काम को अंजाम देने की जरूरत है। लार्सजेस पर चर्चा के दौरान महामंत्री ने कहाकि इसके एवज में जो सैल्यूट स्कीम लाई गई है, उससे कर्मचारियों का कोई भला होने वाला नहीं है । रेलमंत्री ने कहाकि लार्सजेस के मामले में अलग से बैठकर बात करें और ऐसा सिस्टम तैयार करें, जिससे स्कीम की उपयोगिता बनी रहे।
तीन घंटे तक चली बैठक
एआईआरएफ सूत्रों के अनुसार रविवार को बैठक लगभग तीन घंटे तक चली। इस बैठक में बोनस का मामला भी प्रमुखता से उठाया गया। महामंत्री शिवगोपाल मिश्रा  ने कहा कि रेलकर्मचारियों ने कोरोना के समय माल ढुलाई में 15 फीसद से अधिक बढ़ोत्तरी की। इसके बाद भी अभी तक उनके बोनस का ऐलान नहीं किया गया है। इससे कर्मचारियों में गुस्सा बढ़ता जा रही है। बैठक में आश्वस्त किया गया है कि रेलवे बोर्ड से कर्मचारियों के बोनस के मामले को वित्त मंत्रालय को भेजा गया है। उम्मीद है कि जल्दी ही रेल कर्मचारियों के हित में बोनस का फैसला हो जाएगा। इसके अलावा ग्रेड पे 1800 और 4600 के कर्मचारियों को राहत देने के मामले में भी रेलवे बोर्ड मान गया है।